HomeHealth Tips

Doodh Pine Ke Fayde, दूध पीने के फायदे और तरीके

Like Tweet Pin it Share Share Email

Benefits of Milk in Hindi

Dudh Ke Fayde इस धरती पर जन्म लेने वाले सभी लोगो का पहला आहार दूध (Dudh) होता हैं, इसीलिए बचपन से ही दूध (Dudh) को हमारे आहार का मुख्य हिस्सा माना जाता हैं। यही कारण हैं घर के सभी बड़े लोग बच्चो को दूध (Dudh) पीने की सलाह देते हैं। लेकिन आजकल के बच्चे दूध को देखकर ऐसा व्यवहार करते हैं, जैसे दूध के नाम पर घरवाले उन्हें जहर पिला रहे हैं। दूध ना पीने के उनके पास हजार बहाने होते हैं, जैसे कि दूध पीना अच्छा नहीं लगता, दूध पीने के बाद उल्टी आ जाती हैं या फिर दूध में से गन्दी स्मेल आती हैं। ये सभी ऐसे बहाने हैं, तो अक्सर सभी छोटे छोटे बच्चे दूध पीने से बचने के लिए बनाते हैं।

Dudh Ke Fayde

अगर आपको दूध पीना पसंद नहीं हैं, तो आपको अपनी पसंद को बदलना होगा, और रोजाना कम से कम दो गिलास दूध पीना शुरू करना होगा। क्योंकि अनेक प्रकार के पौष्टिक तत्व पाये जाते हैं, जो हमारे शरीर के लिये बहुत जरुरी होते हैं। दूध केवल बच्चो के पिने के लिए नहीं होता। दूध को बच्चे से लेकर बड़े किसी भी उम्र के व्यक्ति को दिया जा सकता हैं। आज हम आपको दूध के फायदे (milk peene ke fayde in hindi) इस विषय पर जानकारी देगे। हमे उम्मीद हैं, जो लोग दूध पीना पसंद नहीं करते वो भी दूध के फायदे (milk peene ke fayde in hindi) जानकर इसे पीना शुरू कर देंगे।

loading...

दूध पीने के फायदे (Milk Benefits in Hindi)

1. दूध को गर्म करने पर उसमे विटामिन और प्रोटीन अधिक मात्रा में पाए जाते हैं। अगर आपकी मांसपेशियां कमजोर है, तो गर्म दूध पिये। गर्म दूध पीने से मांसपेशियां मजबूत होती हैं।

2. दूध में हल्दी मिलाकर पीने से ब्लड साफ़ होना हैं।

3. एमिनो एसिड एक ऐसा तत्व हैं, जो त्वचा में नमी बनाये रखता हैं। जिसके कारण त्वचा नरम रहती हैं। एमिनो एसिड नामक यह तत्व दूध में पर्यापत मात्रा में पाया जाता हैं।

4. अगर आपको चोट लगने के कारण किसी भी प्रकार का दूध हैं तो दूध में हल्दी मिलाकर पिये। हल्दी वाला दूध पीने से शरीर में होने वाला दर्द ठीक हो जाता हैं। चोट से होने वाले दर्द में आराम पाने के लिए डॉक्टर भी हल्दी वाला दूध पीने की सलाह देते हैं।

5. जिन लोगो के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती हैं, वो जल्दी जल्दी बीमार पड़ जाते हैं। दूध का रोजाना सेवन करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती हैं।

6. अगर आपको रात में अच्छे से नींद नहीं आती तो सोने से पहले गर्म दूध पिए। दूध में एमिनो एसिड पाया जाता हैं, जिसके कारण दूध पीने से नींद अच्छी आती हैं।

7. अगर आपके शरीर में फालतू चर्बी चढ़ी हैं, तो इसे कम करने के लिए रोजाना हल्दी वाला दूध पिए। हल्दी वाला दूध पीने से चर्बी धीरे धीरे कम हो जाती हैं।

8. हमारे दाँतो और शरीर की हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए कैल्शियम की जरूरत होती हैं। दूध कैल्शियम भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं, इसीलिए शरीर में कैल्शियम की कमी होते पर डॉक्टर दूध पीने की सलाह देते हैं।

9. हल्दी वाला दूध पीने से गठिया रोग में आराम मिलता हैं।

10. अगर आपके पैर में मोच आयी हैं, तो गर्म दूध पिये। गर्म दूध पीने से पैर में आयी मोच ठीक हो जाती हैं।

11. जो लोग कमजोर हैं, उन्हें दूध अधिक पीना चाहिए। अगर हो सकते तो दूध से बनी चीजो जैसे घी, मक्खन, पनीर का भी अधिक इस्तेमाल करे।

12. एक्ज़ीमा की समस्या होने पर हल्दी वाला दूध पिए। हल्दी वाला दूध पीने से काफी फायदा होता हैं।

13. कब्ज की समस्या होने पर रोजाना रात को सोने से पहले गर्म दूध पिए। ऐसा करने से धीरे धीरे कब्ज की समस्या दूर हो जायेगी।

14. सायनस और दमा जैसी बीमारियों को दूध के सेवन से ठीक किया जा सकता हैं। इसके लिए गर्म दूध में हल्दी पाउडर मिलाकर रोजाना पिये।

15. रोजाना दूध का सेवन करने वाले लोगो को ह्रदय से जुडी बीमारिया कम होती हैं।

16. जिन महिलायो को पीरियड के दौरान अधिक दर्द होता हैं, उनके लिए दूध दवाई का काम करता हैं। जी हाँ दूध पीने से पीरियड के दौरान होने वाला दर्द कम हो जाता हैं।

17. रोजाना सुबह शाम दूध का सेवन करने वाले लोग सामान्य लोगो की तुलना में अधिक आयु तक जीते हैं। यह बात एक शोध ले अनुसार सामने आयी है।

18. सूंदर त्वचा पाने के लिए दूध में हल्दी पाउडर मिलाकर त्वचा की मालिश करे, और करीब 15 से 20 मिनट बाद ठन्डे पानी से मुँह धूल ले।

दोस्तों आज हमने आपको दूध के फायदे (Dudh Ke Fayde) इस बारे में जानकारी दी। हमने पूरी कोशिश की है, कि हमारी जानकरी आपके लिए लाभकारी हो। अगर आप इस विषय में हमने कोई भी जानकारी चाहते हैं, तो पोस्ट के निचे बने कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमे जरूर बताये। हमें आपके कमेंट का इंतजार रहेगा। आपका एक एक कमेंट हमारे लिए कीमती हैं।

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

loading...

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!