HomeHealth Tips

फेफड़ों का कैंसर के लक्षण Lung Cancer Symptoms in Hindi

Like Tweet Pin it Share Share Email

Lung Cancer Ke Lakshan and Treatment in Hindi

साँस लेने के लिए फेफड़ों की जरूररत होती हैं, इसीलिए फेफड़ो को स्वसन प्रणाली का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता हैं। जब फेफड़ों की कोशिकाएं असामान्य रूप से अनियंत्रित होकर फैलने लगती हैं, तब यह धीरे धीरे फेफड़ो के कैंसर का रूप ले लेती हैं। फेफड़ो का कैंसर खतरनाक बीमारी हैं, जिसका मुख्य कारण हैं धूम्रपान करना। लेकिन आजकल वातावरण में इतना अधिक प्रदूषण हो गया हैं, कि जो लोग धूम्रपान नहीं करते उनको भी फेफड़ो का कैंसर हो रहा हैं। यह बीमारी 40 की उम्र पर करते ही लोगो में तेजी से फैलने लगती हैं। शुरू में इस बीमारी के लक्षणों का पता नहीं चलता, और जब इस बीमारी का पता चलता हैं, तब यह बीमारी बॉडी के सभी हिस्सो में फ़ैल चुकी होती हैं।

lung cancer in Hindi

कैंसर कोई भी हो खतरनाक और जानलेवा होता हैं। लेकिन अगर हम धूम्रपान छोड़कर समय पर इस कैंसर के लक्षण पहचान कर इसका इलाज कराये, तो हम इस खतरनाक बीमारी से बच सकते हैं। आज हम आपको फेफड़ो के कैंसर के कारण, इस कैंसर के लक्षण और इस कैंसर से कैसे बचा जाये, इस बारे में जानकारी देगे। आइये जाने लंग कैंसर के बारे में –

loading...

फेफड़ों के कैंसर के कारण (Causes of Lung Cancer)

1. धूम्रपान करने के कारण यह रोग होता हैं। फेफड़ो का कैंसर 99 % धूम्रपान करने वाले लोगो को होता हैं।
2. फेफड़ो का कैंसर रेडियोएक्टिव गैस राडोण के संपर्क में आने से भी हो सकता हैं।
3. अधिक गन्दगी में लंबे समय तक काम करने से भी यह रोग हो सकता हैं।
4. अगर आपको पहले फेफड़ों से जुड़ा कोई भी रोग हुआ हैं, तो आपको फेफड़ो का कैंसर हो सकता हैं।
5. जो लोग तम्बाकू का सेवन करते हैं, उनको यह कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता हैं।
6. कोयले के अधिक संपर्क में रहने से लंग कैंसर हो सकता हैं।

lung cancer ke lakshan (Lung cancer symptoms in hindi language)

1. लंबे समय तक खाँसी होना।
2. घबराहट होना।
3. निमोनिया होने के बाद देर से ठीक होना।
4. हड्डियों में हमेशा दर्द रहना।
5. खाँसी के दौरान खून आना।
6. शरीर में सूजन।
7. आवाज में बदलाव।
8. भूख ना लगना।
9. अचानक रासायनिक संरचना में बदलाव।
10. चेहरे में परिवर्तन।
11. सिर दर्द के साथ दौरा पड़ना।
12. सीने में हमेशा दर्द रहना।
13. कैंसर बढ़ने पर दिल में दर्द होना।
14. शरीर में हमेशा थकान रहना।
15. हमेशा खाँसी रहना।
16. सांस लेने में परेशानी होना।
17. छाती और कंधो में दर्द रहना।
18. मुह और गर्दन सुजना।
19. खाना निगलने में दिक्कत होना।
20. वजन कम होना।

फेफड़ों के कैंसर की पहचान के लिए जाँच (Check for lung cancer identified)

1. इस कैंसर की पहचान के लिए डॉक्टर शारीरिक जाँच करते हैं।
2. फेफड़ों के अंदर के हिस्सो की जाँच करने के लिए ब्रोंकोस्कोपी करायी जाती हैं।
3. सीने के एक्सरे द्वारा इस कैंसर की पहचान की जाती हैं।
4. कैंसर की पहचान के लिए मरीज के थूक को चेक किया जाता हैं।
5. माइक्रो स्कोपी द्वारा फेफड़ों के ऊतकों की जाँच की जाती हैं।

लंग कैंसर का इलाज (Lung cancer treatment)

हमें जीवित रहने के लिए ऑक्सीजन की जरूरत होती हैं। यह ऑक्सीजन सांस लेने वाली नलियो द्वारा हमारे फेफड़ो को पहुँचायी जाती हैं। लेकिन फेफड़ो के कैंसर से पीड़ित मरीज की ये नलिया ब्लॉक हो जाती हैं, जिसके कारण इन्हें सांस लेने में बहुत अधिक तकलीफ होती हैं। इसीलिए मरीज को नाक के माध्यम से ऑक्सीजन दिया जाता हैं। सर्जरी और कीमोथेरपी द्वारा ही पूरी तरह से इस कैंसर का इलाज किया जाता हैं, लेकिन अगर हम अपने दैनिक जीवन में परिवर्तन के साथ साथ नशीली चीजो का सेवन करना छोड़ दे, तो हम काफी लंबे समय तक अपना जीवन जी सकते हैं।

1. विटामिन डी से फेफड़ो की कोशिकाओं मजबूत होती हैं, इसीलिए विटामिन डी का अधिक सेवन करे। विटामिन डी के लिए सबसे बेहेतर हैं, सूर्योदय के समय आधे से एक घंटे तक धुप में बैठे।

2. व्यक्ति स्वस्थ हो या बीमार सही खान पान सभी के लिए जरुरी हैं, इसीलिए अपने भोजन पर विशेष रूप से ध्यान दे। ताजे फलो और सलाद का खूब सेवन करे। फेफड़ो का कैंसर होने पर बादाम ना खाये और साफ़ पानी ही पिए। लाल मीट और शुगर का इस्तेमाल करने से कैंसर की कोशिकाओं बढ़ती हैं, इसीलिए इनका सेवन ना करे।

3. कैंसर के मरीज को कॉड आयल और प्रोटीन का अधिक सेवन करना चाहिए। अगर आप नॉनवेज खाते हैं, तो आपको समुंद्री और देशी मछलियो का सेवन करना चाहिए, इनमे अधिक मात्रा में कॉड आयल और प्रोटीन पाया जाता हैं।

4. अलसी के बीज का तेल फेफड़ो के कैंसर के मरीज के लिए लाभकारी होता हैं, इसीलिए रोजाना इस तेल की कुछ मात्रा का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए।

5. ग्रीन टी पीने से भी फेफड़ो के कैंसर में आराम मिलता हैं। इसका कारण हैं ग्रीन टी में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट गुण। जो फेफड़ो की रोगों से लड़ने की छमता को बढा देते हैं।

6. नोनी एक प्रकार का फल हैं। जो मार्किट में कम ही मिलता हैं, लेकिन यह फल स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी होता हैं। इस फल का जूस बनाकर पिया जाता हैं। जिन लोगो को फेफड़ो का कैंसर हैं, उन्हें इसके सेवन से लाभ मिलता हैं।

दोस्तों आज हमने आपको लंग कैंसर ट्रीटमेंट lungs cancer treatment in hindi के बारे में जानकारी दी, आपको हमारी यह ज्ञानवर्धक जानकरी कैसी लगी, हमे पोस्ट के निचे बने कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताये।

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

loading...

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!