HomeHealth Tips

गर्भावस्था मे सफेद पानी आना – Pregnancy Me White Discharge in Hindi

Like Tweet Pin it Share Share Email

Pregnancy Me Safed Pani Ka Gharelu Ilaj

सफेद पानी जिसे अंग्रजी में White Discharge या Leukorrhea भी कहते हैं, यह एक सामान्य किर्या हैं। सफ़ेद पानी आने की किर्या एक औरत में तब तक चलती हैं, जब तक एक औरत में प्रजनन करने की क्षमता बनी रहती हैं। जब एक औरत माँ बनने की प्रकिर्या से गुजर रही होती हैं, तो उसके अंदर अनेक प्रकार के शारीरिक और मानसिक परिवर्तन होते हैं।

Safed Pani in Pregnancy in Hindi

सफ़ेद पानी (White Water) उन्ही परिवर्तनों में से एक हैं। अक्सर महिलाये गर्भावस्था मे सफेद पानी आने पर घबरा जाती हैं। उनके मन मे अनेक प्रकार की बाते आने लगती हैं, कि क्या ये उनके होने वाले बच्चे यह उनके लिए हानिकारक हैं ? लेकिन आप सभी को घबराने की जरूरत नहीं। आज हम अपनी इस पोस्ट में आपको बतायेगे कि गर्भावस्था मे सफेद पानी (Safed Pani in pregnancy) क्यों आता हैं ?

loading...

गर्भावस्था मे सफेद पानी आने का कारण (Reason for White Water Coming in Pregnancy)

गर्भावस्था के शुरुआती 3 महीनो में सफेद पानी आने की किर्या तेजी से होती हैं। इस समय आने वाले सफ़ेद पानी में हल्की गंध भी आती हैं। गर्भावस्था के समय आने वाला यह सफेद पानी (White Discharge) वास्तव में Cervical Mucus होता। यह Cervical Mucus गर्भावस्था के लिए अच्छा होता हैं।यह Cervical Mucus गर्भावस्था के दौरान औरत के जनन तंत्र को सही बनाये रखता हैं। Cervical Mucus गर्भावस्था और भ्रूण को अनेक प्रकार के संक्रमण से बचाता हैं। गर्भाश्य ग्रीवा में गर्भावस्था के दौरान Cervical Mucus का निर्माण होता हैं। Cervical Mucus ही सफ़ेद पानी (White Discharge) के रूप में बाहर निकलता हैं।

गर्भावस्था के दौरान सफ़ेद पानी में अनेक प्रकार के परिवर्तन देखने को मिल सकते हैं, जैसे इस पानी का रंग भूरा या हल्का गुलाबी हो जाता हैं। यह पानी पहले की अपेक्षा गाढा हो जाता हैं। इन सभी परिवर्तनो को देखकर घबराने की जरुरत नहीं, क्योंकि ये सभी Pregnancy के दौरान होने वाले सामान्य परिवर्तन हैं। Pregnancy के दौरान शरीर में Estrogen की मात्रा बढ़ जाती हैं, जिसके कारण Pregnancy में आने वाला सफ़ेद पानी गाढ़ा हो जाता हैं।

गर्भावस्था के दौरान सफेद पानी में होने वाले परिवर्तन (Changes in white water during pregnancy)

पहले तीन महीने में परिवर्तन – Pregnancy के पहले तीन महीने में सफ़ेद पानी अधिक निकलता हैं। इस समय यह पानी रंगहीन और बहुत पतला होता हैं। Pregnancy का समय जैसे जैसे बढ़ता जाता हैं, वैसे वैसे यह सफ़ेद पानी भूरे रंग के गाढ़े पढ़ार्थ का रूप ले लेता हैं। सफेद पानी का रंग बदलकर गाढ़ा होना सामान्य परिवर्तन हैं, इसीलिए इस बात को लेकर घबराने की कोई जरुरत नहीं। लेकिन अगर फिर भी आपको संतुष्टि ना हो तो एक बार आप किसी डॉक्टर से संपर्क जरूर करे।

दूसरे तीन महीने में परिवर्तन – Pregnancy के चौथे से छठे महीने में सफेद पानी का स्त्राव अधिक ही होता हैं। लेकिन इस समय सफेद पानी गाढा हो जाता हैं, और इसके रंग में भी परिवर्तन देखने को मिलता हैं। ये सभी Pregnancy के दौरान होने वाले सामान्य लक्षण हैं, इसीलिए आप किसी भी प्रकार से चिंता ना करे। इस समय अगर आपको सफेद पानी के साथ हल्का ब्लड आये तो इस बात को हल्के में ना ले और तुरंत किसी अच्छे डॉक्टर से संपर्क करे।

तीसरे तीन महीने में परिवर्तन – इस समय भी सफ़ेद पानी सामान्य रूप से आता रहेगा, लेकिन इसका रंग पहले से अधिक गाढ़ा हो जायेगा। जैसे जैसे Pregnancy का समय निकट आता हैं, वैसे वैसे सफ़ेद पानी के साथ हल्का खून आ सकता हैं, और यह एक सामान्य प्रकिर्या हैं। इसीलिए घबराने की जरुरत नहीं।

गर्भावस्था की फाइनल स्टेज में परिवर्तन – गर्भावस्था की फाइनल स्टेज में भी सफेद पानी आने की किर्या चलती रहती हैं। इस स्टेज पर सफेद पानी आने का मतलब हैं, कि बच्चे को जन्म देने के लिए आपका शरीर खुद को तैयार कर रहा हैं। इस स्टेज पर आपका प्रसव पीड़ा होने के कुछ समय पहले पेशाब जैसा पतला द्रव निकलता हैं। इस द्रव को देखकर डरे नहीं, यह सामान्य हैं। वास्तव में इस समय आपके amniotic fluid का लीकेज हो रहा हैं, इसका अर्थ हैं कि कुछ समय बाद आप बच्चे को जन्म देने वाली हैं।

सफेद पानी हानिकारक हैं या नहीं ? (White water is harmful or not?)

सफ़ेद पानी आपके और आपके बच्चे के लिए किसी भी रूप में हानिकारक नहीं होता। इसके विपरीत सफेद पानी का निर्माण आपके बच्चे को सुरक्षा प्रदान करता हैं। लेकिन एक बात का ध्यान रहे आप अपनी पूरी तरह से साफ़ सफाई रखे। अगर गन्दगी के कारण आपको किसी भी प्रकार का संक्रमण हो गया, तो यह आपके और आपके बच्चे दोनों के लिए हानिकारक हैं।

सफेद पानी में परिवर्तन के दौरान सावधानी (Careful during changes in white water)

गर्भावस्था के 9 महीनो में सफेद पानी के रंग और गंध में अनेक प्रकार के परिवर्तन आते हैं। आपको सभी प्रकार के परिवर्तनों को ध्यान में रखना हैं। यदि डिस्चार्ज होने वाले White water का रंग हल्का हैं, और वह पतला या गाढा हैं, तो डरने की जरुरत नहीं। लेकिन White water में अनेक प्रकार के परिवर्तन होते हैं, जो सामान्य नहीं होते और किसी ना किसी संक्रमण के कारण होते हैं। आज हम आपको कुछ इन्फेक्शन के बारे में बतायेगे, जिनके बारे में आपको जानकारी होना जरुरी हैं।

Bacterial Vaginosis Infection – इस इन्फेक्शन में सफेद पानी से मछली जैसी गन्दी स्मेल आयेगी और सफेद पानी का रंग हरा या सलेटी हो जायेगा।

Gonorrhea Infection – इस इन्फेक्शन में सफेद पानी पिला रंग का गाढ़ा पढ़ार्थ बन जाता हैं। इस समय सफेद पानी पानी में बदबू भी आने लगती हैं।

Trichomoniasis Infection – इस इन्फेक्शन के दौरान आपको पेशाब करने में परेशानी का सामना करना पड़ेगा। White Discharge हरे रंग के बदबूदार द्रव में कन्वर्ट हो जायेगा।

Yeast Infection – इस इन्फेक्शन में White Water का रंग सामान्य सफ़ेद रहता हैं, लेकिन पेशाब करते समय जलन के साथ दर्द होता हैं।

Chlamydia Infection – इस इन्फेक्शन में White Water का स्त्राव अधिक मात्रा में होता हैं। इस इन्फेक्शन में आपको फीवर के साथ साथ पेशाब करने में दर्द का अनुभव हो सकता हैं।

दोस्तों आज हमने आपको गर्भावस्था मे सफेद पानी आना इस विषय पर जानकारी दी। हमें उम्मीद हैं हमारी यह जानकारी आपके लिए बहुत फायदेमंद होगी। गर्भावस्था मे सफेद पानी आना एक सामान्य किर्या हैं, इसीलिए जानकारी के अभाव में आप इससे घबराये नहीं। आपको हमारी यह पोस्ट और इस पोस्ट से मिलने वाली जानकारी कैसी लगी हमे जरूर बताये। अगर आपको इस बारे में अधिक जानकारी चाहिए या आपका कोई सवाल हैं तो आप पोस्ट के निचे बने कमेंट बॉक्स में कमेंट करके अपने सवाल पूछ सकते हैं।

Disclaimer: All information are good but we are not a medical organization so use them with your own responsibility.

loading...

Comments (2)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!